दुनिया
Breaking News

कौन है Antifa समुह और Trump क्यों बता रहे हैं उसको आतंकी संगठन

अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने फ़ासीवादी विरोधी समूह ‘एंटीफा' (Antifa) को आतंकी संगठन घोषित किया है। ट्रम्प ने आरोप लगाया है कि George Floyd की मौत को लेकर विरोध प्रदर्शनों में दंगे भड़काने के पीछे ऐंटीफा शामिल है। 

अफ्रीकन मूल के अमेरिकी नागरिक George Floyd की अमेरिकी पुलिस द्वारा की गई हत्या के बाद पुरा अमेरिका जल रहा है। कर्फ्यू के बाद भी अमरीका में हिंसक प्रदर्शन लगभग 40 शहरों में जारी है। जगह जगह हो रहे प्रदर्शनों में एक संगठन जो सबसे ज्यादा सक्रीय आ रहा है, वो है एंटीफा (Antifa) समुह। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड़ ट्रंप इस  Antifa ग्रुप से नाखुश नज़र आ रहे है और वे इस पर प्रतिबंध लगाने की बात कर रहे है।

अब जिस ऐंटीफा (Antifa)  को ट्रम्प आतंकी संगठन घोषित करना चाहते हैं, आइये जानते हैं कि ऐंटीफा आखिर है क्या। बता दें,यह ग्रुप 1920 और 1930 के दशक में हुए यूरोपीय फ़ासीवादी ताकतों के खिलाफ मूवमेंट करने पर अस्तित्व में आया। इस समूह के कुछ सदस्यों ने नवनाज़ीवाद का विरोध किया। अब डोनाल्ड ट्रम्प के रूढ़िवादियों के बीच ये फिर से उठ रहा है।

  • ऐंटीफा किसके विरोध में है?

इस विचारधारा के लोग नवनाज़ीवाद, नवफ़ासीवाद, नस्लीय भेदभाव और व्हाइट सुप्रिमसिस्ट्स जैसे रूढ़िवादी धुरदक्षिणपंथी विचारधारा के खिलाफ आवाज उठाते हैं। राजनितिक विचारधारा से प्रेरित ये समूह फ़ासीवाद का विरोध करने के लिए एकजुट है और सरकार विरोधी विचारधारा रखता है। इन लोगो का कहना है की अमरीका में बढ़ रहे फ़ासीवाद का विरोध करने के लिए और ट्रम्प की नीतियों के खिलाफ हम डटे रहेंगे।

  • काले कपड़ो से क्या संबंध है?

इस समूह की विचारधारा वाले लोग काले कपड़े पहनते हैं। पुलिस या विरोधी इनकी पहचान न कर सके ये लोग अपने चेहरे को मास्क या हेलमेट से ढक कर रखते हैं। इन्होंने पश्चिम जर्मनी के अराजकतावादियों से लेकर शीत युद्ध तक खूब प्रदर्शन किये हैं।

  • क्या है इनका तरीका और ये कितने हिंसक हो सकते हैं?

इनकी कोशिश रहती है कि ये रूढ़िवादी धुर दक्षिणपंथियों कार्यक्रमो और नेताओं के कार्यक्रमों में मुश्किल पैदा करें। ऐसा करने के लिए ये शोर मचाते हैं, गीत गाते हैं और दक्षिणपंथियों को रोकने के लिए मानव श्रृंखला बनाते हैं। प्रदर्शनो के दौरान हिंसा का भी इस्तेमाल करते हैं। इनमे से कुछ हिंसा की निंदा करते हैं। गौरतलब है, कई बार ऐंटीफा समूह के लोगों ने सीधे तौर पर दक्षिणपंथयो का सामना किया है। कुछ मामलो में रैलिया रद्द कराने, टलवाने में भी कामयाब रहे हैं।

महिलाये भी शामिल ?

आमतौर पर सड़कों के विरोध प्रदर्शनों में अधिकतर पुरुष शामिल होते हैं लेकिन कैलिफ़ोर्निया और अन्य जगहों में प्रदर्शनों में बड़ी संख्या में इस संघठन में महिलाएं शामिल रही।

अदिति सिंह

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button
Close
Close
%d bloggers like this: