खेल
Breaking News

हॉकी के प्रसिद्ध खिलाड़ी बलबीर सिंह का निधन

तीन बार ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने वाली हॉकी टीम का हिस्सा रहे बलबीर सिंह सीनियर का सोमवार की सुबह मोहाली के एक अस्पताल में निधन हो गया। 95 साल के बलबीर कई स्वास्थ्य विकारों से गुज़र रहे थे। 18 मई से वे लगभग कॉमा वाली अवस्था में थे। उनके दिमाग़ में खून का थक्का बन गया था और वे तेज़ बुखार से भी पीड़ित थे।

हॉकी के क्षेत्र में बलबीर सिंह का योगदान अतुलनीय है। आज की पीढ़ी शायद अनजान हो कि बलबीर सिंह सीनियर हॉकी के एक महान खिलाड़ी थे। भारतीय खेल इतिहास में उस प्रसिद्ध खिलाड़ी के हिस्से में साल 1948,1952 और 1956 के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता हॅाकी टीम का हिस्सा बनने का गौरव प्राप्त है। उन तीन स्वर्ण पदकों को जीतने में अहम योगदान था। साल 1952 हेलंसकी में उन्होंने मैच जीतने वाला यादगार प्रदर्शन किया था।

उस दिन उनके नाम पुरुष हॉकी के फाइनल में सबसे ज्यादा गोल करने वाले खिलाड़ी का रिकॅार्ड दर्ज हुआ था। उस मैच में उन्होंने नीदरलैंड के खिलाफ अकेले ही 5 गोल दागे थे और भारतीय हॉकी टीम ने 6-1 से नीदरलैंड को मात देकर स्वर्ण पदक पर कब्जा जमा लिया था। वहीं साल 1956 में वे उस भारतीय टीम का भी हिस्सा रहे जिसने कुल 38 गोल दागे थे और स्वर्ण पदक विजेता टीम वाले भारतीय प्रदर्शन के रास्ते में कोई दूसरा मुकाबले में नहीं आ सका।

former olympian hockey player balbir singh passed away at gae of 95

वे सिर्फ़ एक हॉकी के रूप में ही विख्यात नहीं रहे बल्कि उन्होंने एक सफल हॉकी कोच की भूमिका भी निभाई। साल 1957 में हॉकी के प्रति अतुलनीय योगदान को देखते हुए बलबीर सिंह सीनियर को पद्मश्री से नवाजा गया। वहीं साल 2014 में उन्हें ध्यान चंद लाइफ़ टाइम अवार्ड से सम्मानित किया गया।

प्रधानमंत्री मोदी ने हॉकी के दिग्गज खिलाड़ी को श्रद्धांजलि देते हुए एक ट्वीट कर लिखा किपद्मश्री बलबीर सिंह सीनियर हमेशा यादगार खेल प्रदर्शन के लिए याद रखे जाएंगे। उन्होंने देश को गौरवान्वित किया है।प्रधानमंत्री ने प्रशंसा करते हुए लिखा किवे ना सिर्फ एक शानदार खिलाड़ी थे बल्कि एक पथप्रदर्शक भी थे।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button
Close
Close
%d bloggers like this: