आपकी कलम से
Breaking News

सरकार की कथनी और करनी को पहचानने वाला सर्वप्रथम वर्ग मज़दूर

लेखक- मुजाहिद नफ़ीस, कन्वीनर माइनॉरिटी कोर्डिनेशन कमेटी, गुजरात

दुनिया के 100 से अधिक देश कोविड़19 नाम के वायरस से जूझ रहे हैंभारत में अभी तक लगभग 2 लाख के करीब  कोरोना के कन्फ़र्म केस आए हैं। महाराष्ट्रदिल्लीगुजरातमुख्य रूप से प्रभावित राज्य हैं। भारत में सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यवस्था पहले से ही खस्ता हाल है। देश में डॉक्टरों की उपलब्धता 1,1456 हैगुजरात में 33 ज़िलों में सिर्फ 23 जिलों में ही ज़िला अस्पताल हैं। 

ऐसे में एक वैश्विक महामारी से लड़ना एक चुनौती से कम नहीं। देश में रोज़गार भी एक चुनौती ही है। एक सर्वे के अनुसार लगभग 90% से अधिक लोग असंगठित क्षेत्र के रोज़गार से जुड़े हैं। ये अपने राज्य में खेत मज़दूररिक्शानिर्माण क्षेत्र व दूसरे राज्यों में कांट्रैक्ट लेबर पर एमएसएमई (MSME) क्षेत्र में काम करने के लिए जाते हैं। दूसरे राज्यों में काम करने वालों की संख्या करोड़ों में है। इन लोगों का जीवन स्तर बहुत निचले स्तर पर है। ये छोटेछोटे कमरोंझुग्गीझोपड़ीचाली व कार्यस्थल पर अस्थाई आसरों  में रहते हैं।

 यहाँ उनके लिए न्यूनतम सुविधाएं भी नहीं होती हैं। इन मज़दूरों को जितना काम उतना वेतन मिलता है। ये लोग रोज़ समान लाकर रोज़ खाना बनाते हैं। ये सब जानते हुए भी सरकार ने बिना पूर्व तयारी के अचानक देश में लॉक डाउन की घोषणा कर दी। इससे सबसे बुरा प्रभाव इन दिहाड़ीअसंगठित क्षेत्र के मज़दूरों पर पड़ा। देश की लगभग 70% आबादी को समझ ही नहीं आया की आगे क्या होगा। लोग अपने घरों में बंद हो गएउनको खाने की दिक़्क़त होने लगी ऐसे में देश की स्वयंसेवी संस्थाएँधार्मिक संगठनसामाजिक कार्यकर्ता फ़ौरन आगे आए और उन्होने इन वर्गों को खानाराशन पहुंचाना शुरू किया।

 लॉक डाउन 1 के बाद की अनिश्चिततास्वास्थ्य सेवाओं का बुरा हालवेतन और खाने की परेशानीजान जाने का डर आदि ने लोगों को अपने मूल वतन जाने के लिए प्रयास करना शुरू करवा दिया। सरकार की ओर से मूल प्रश्नो के बजाए विघटनकारी बयानबाजी ने लोगों का विश्वास कम कियादूसरी तरफ फंसे हुए मज़दूरों ने मान लिया कि सरकार उनके लिए कुछ नहीं करेगी उनको जान को ख़तरा है इसलिए उनको खुद ही अपने घर जाना होगा। लोग हज़ारों किलोमीटर पैदल अपने परिवार यहाँ तक कि गर्भवती महिलाओं भी घर की तरफ़ निकाल पड़ी। 

सरकार के प्रति इतना अविश्वास हाल के 20- 25 साल में नहीं देखा गया कि मज़दूर वर्ग जिसको अनपढ़जाहिलगंवार यहाँ तक कि देश पर बोझ कहा जाने वाले वर्ग ने सरकार के चरित्र को पहचानने में जिस दूरदर्शिता का परिचय दिया वो निशित ही सलाम के योग्य है। सरकार लॉक डाउन के 60 दिन में अभी तक भी अपनी उल्लेखनीय उपास्थि दर्ज नहीं करा पायीरोज़ बदलते नियमढिंढोरा पीटनालोगों को सुरक्षित घरों तक पहुंचाने में विफ़लसभी की जांच में विफ़लसभी को खाना पहुंचानेयहाँ तक कि लगभग 40 श्रमिक स्पेशल ट्रेन अपना गंतव्य मार्ग भटक कर कहीं और चली गयी और 24 घंटे का सफ़र कई गुना ज़्यादा समय में पूरा हो रहा हैसरकार हर एक मोर्चे पर असफल हुई है। 

हद तो ये कि मज़दूरों को घर ले जाने वाली श्रमिक ट्रेन में उन लोगों से किराया वसूला गया/ जा रहा है जो लगभग 2 महीने से काम पर नहीं गएउनको वेतन नहीं मिलास्वयंसेवी संस्थाओंकार्यकर्ताओं के दिये खाने से ज़िंदा रहे। हद तो यहाँ तक है कि लोगों के खाना बांटने पर भी पाबंदी लगाई गयी। सरकार की ओर से आने वाले समय में लोगों के रोज़गारस्वास्थ्यशिक्षा को लेकर कोई स्पष्टता दिखाई नहीं दे रही है। मुझे विश्वास है कि मज़दूर वर्ग ही देश को नया रास्ता दिखाएगा और मज़दूर देश में एक धुरी बनेंगे।  

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close
%d bloggers like this: