देश

क्या एक बार फिर लॉकडाउन की ओर बढ़ रहा है भारत ?

कोरोनावायरस महामारी ने विश्व के कई हिस्सों में एक बार फिर कोहराम मचा दिया है। पिछले साल इन दिनों सारा विश्व लॉकडाउन में था और इस साल एक बार फिर कोरोना की दूसरी लहर ने सबको डरा दिया है।

भारत में पिछले कुछ दिनों में कोरोना संक्रमण एक बार फिर काफ़ी तेजी से फैल रहा है। विशेषज्ञों का कहना है कि यह वायरस की दूसरी लहर है। वहीं सरकार ने भी कोरोना के बढ़ते मामलों को देखकर चिंता जताई है और आगाह किया है कि आने वाले दिनों में और भी बुरे हालात हो सकते हैं। वहीं विश्व के कुछ देशों में भी स्थित्ति कुछ इसी प्रकार बनती नजर आ रही है।

कैसे हैं भारत में मौजूदा हालात?

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक देश में पिछले 24 घंटे में कोविड 19 के 89 हजार 129 नए मामले दर्ज किए गये हैं। जिसके बाद भारत में एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 6.5 लाख हो गए हैं। इसके अलावा महाराष्ट्र, पंजाब और केरल समेत कई राज्यों में तेजी से मामलें बढ़ रहे हैं। साथ ही अन्य राज्यों में भी अब इस कोरोना संक्रमण का ग्राफ तेजी से रफ़्तार पकड़ रहा है।
स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश के 50 प्रतिशत मामले इन दस जिलों में से आ रहे हैं- पुणे, मुंबई, नागपुर, ठाणे, नाशिक, बेंगलुरु, औरंगाबाद, दिल्ली, अहमेदनागर और नांदेड़।

राजधानी दिल्ली में कितना फ़ैल रहा है संक्रमण?

राजधानी दिल्ली की बात करें तो पिछले दिनों में कोरोना के नए मामलों में लगातार दूसरी बार उछाल सामने आया है। बीते 24 घंटों में कोरोना के 3 हजार 567 नए मामले सामने आए और दस लोगों की मौत हुई, जिसके बाद राजधानी में एक्टिव केस अब 12 हजार 647 हैं। साथ ही अबतक वायरस से दिल्ली में 11 हजार 60 लोगों की जान गयी है। दिल्ली सरकार ने एक्शन लेते हुए स्कूलों को एक बार फिर ऑनलाइन माध्यम से क्लास जारी रखने पर जोर दिया है। इसके अलावा साफ किया है कि राजधानी में लॉक डाउन नहीं लगाया जायेगा। साथ ही दिल्ली में एयरपोर्ट पर रैंडम टेस्टिंग भी की जा रही है।

देश के 10 जिले जहां कोरोना से हालात बेकाबू

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में कोरोना वायरस महामारी के इन जिलों में से आठ महाराष्ट्र में हैं। अकेले महाराष्ट्र का इसमें योगदान 59.63 प्रतिशत है। जिस गति से महाराष्ट्र में संक्रमण फ़ैल रहा है मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लॉक डाउन लगाने के संकेत दिए हैं। जैसे की पुणे में आंशिक लॉक डाउन लगा दिया गया है और 30 अप्रैल तक स्कूल- कॉलेज बंद कर दिए गए हैं।
बता दें देश में कोरोना का इलाज करा रहे 77.3 प्रतिशत पांच राज्यों – कर्नाटक, छत्तीसगढ़, केरल, महाराष्ट्र और पंजाब में हैं।

सरकार की क्या है तैयारी ?

देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर को देखते हुए टेस्टिंग बढ़ा दी गयी है। लगभग 10 लाख से अधिक नए टेस्ट 30 मार्च तक किए गए हैं। साथ ही केंद्र सरकार ने राज्यों को स्थित्ति के हिसाब से प्रतिबंध लगाने के आदेश दिए हैं। इसके अलावा कोरोना से निपटने के लिए सरकार ने इस महीने की पहली तारीख से अब 45 या उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए टीकाकरण को मंजूरी दे दी गयी है। इससे पहले न्यूनतम आयु 60 या 45 साल या उससे अधिक आयु वाले लोग ही वैक्सीन लगवा सकते थे।

फ्रांस और बांग्लादेश में लॉकडाउन, ब्राजील में शवों के लिए जगह पड़ी कम

कोरोना का कहर जारी है और इसी के चलते फ़्रांस में 4 हफ़्तों के लिए देशव्यापी लॉक डाउन लगाया गया है। लॉक डाउन के दौरान स्कूल कॉलेज को बंद कर दिया गया है और 10 किमी से दूर जाने पर भी रोक लगाई गई है। इसके अलावा जरूरी सामानों की दुकानें खुली रहेंगी। दूसरी तरफ पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश में कोरोना के भयंकर रूप को देखने के बाद वहां की सरकार ने एक हफ़्ते यानिकि सोमवार से देशव्यापी लॉकडाउन लगा दिया है।

वहीं बात करें ब्राजील की तो वहां हालात लगातार बिगड़ रहे हैं। कोरोना से अबतक ब्राजील में 3 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो गयी है। अब यहां कब्रिस्तानों में शवों को दफ़नाने की जगह भी कम पड़ गयी है, जिसके चलते पुरानी कब्रों को दोबारा खाली किया जा रहा है। तेजी से बढ़ रहे संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़ने से चिंता और भी ज्यादा बढ़ गयी है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button
Close
Close
%d bloggers like this: