कोरोना

क्या फर्क है सर्दी-जुकाम, फ्लू और कोरोना वायरस में? जानें

कोरोना वायरस के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। भारत में पिछले कई दिनों से 3 लाख से ज्यादा केस कोरोना के दर्ज हो रहे हैं।

देशभर में कोरोना वायरस की दूसरी महामारी से हालात बेकाबू हो रहे हैं। लगातार संक्रमण फ़ैल रहा है और मौतों के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। कोरोना का यह दूसरा वेरिएंट इतना खतरनाक है कि देश में अब 25 लाख से ज्यादा एक्टिव केस हो चुके हैं।

इसके अलावा मौसम में बदलाव भी हो रहा है जिसके चलते अगर हल्का बुखार या फ्लू हो रहा है, तो उसे भी लोग कोरोना मान रहे हैं। आइये जानते हैं फ्लू, हलके बुखार और फ्लू के बीच अंतर..

क्या है इन तीनों में अंतर

यदि किसी को फ्लू है फिर सर्दी जुकाम होता है तो उसमें लक्षण आमतौर पर एक से चार दिन में दिखने लगते हैं। वहीं यदि कोरोना होता है तो कोरोना के लक्षणों को सामने आने में एक से 14 दिन का समय लगता है।

दूसरा अंतर यह है कि फ्लू के लक्षण मरीज में अचानक दिखने लगते हैं, तो वहीं कोरोना यदि है तो सर्दी-जुकाम होने के साथ मरीज में लक्षण धीरे-धीरे बढ़ते हैं।

ध्यान देने वाली बात यह है कि यदि किसी व्यक्ति में खांसी, बुखार, सांस लेने में दिक्कत के साथ-साथ सूंघने और स्वाद लेने की क्षमता चली जाती है, तो यह कोरोना का सबसे बड़ा लक्षण माना जाता है।

वहीं यदि फ्लू या सर्दी जुकाम की बात करें तो उसमें ऐसा नहीं होता है। फ्लू या जुकाम में नाक जरूर बंद होती है, लेकिन इसमें सूंघने की क्षमता पूरी तरह खत्म नहीं होती।

कोरोना वायरस के लक्षण होते हैं- सांस लेने में दिक्कत, बदन दर्द, गले में खराश, नाक बहना, सूंघने और स्वाद लेने की क्षमता खत्म हो जाना और डायरिया ये सब कोविड के लक्षण होते हैं।

वहीं फ्लू के लक्षण हैं- बदन दर्द, नाक बहना, बुखार, नाक बहना, गले में दर्द, नाक बंद होना, थकान।

यह कहना सही होगा कि बुखार, बदन में दर्द, सर्दी खांसी और गले में खराश ये सभी लक्षण फ्लू, बुखार और कोरोना वायरस तीनों में नजर आते हैं। लेकिन अगर तबियत ज्यादा बिगड़े और संदेह हो तो कोविड टेस्ट कराना ही उचित है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button
Close
Close
%d bloggers like this: