देशराज्‍यों से

केंद्र से टकराव पर सीएम ममता का बड़ा दांव, अलपन बंदोपाध्याय को बनाया मुख्य सलाहकार

अलपन बंदोपाध्याय को बंगाल सरकार और सीएम ममता बनर्जी का अगले तीन साल के लिए मुख्य सलाहकार बनाया गया है।

चक्रवात ‘यास’ तो ख़त्म हो गया लेकिन बंगाल की राजनीति में अभी भी तूफ़ान जारी है। बंगाल की मुख्यमंत्री चक्रवात यास की प्रधानमंत्री के साथ समीक्षा बैठक में शामिल नहीं हुई और केंद्र के द्वारा चीफ सेक्रेटरी के ट्रांसफर को गलत करार देते हुए पीएम नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी और कई गंभीर आरोप लगाए। 

बाद में ममता ने इस जारी घमासान के बीच एक बड़ा दांव खेला और अलपन बंदोपाध्याय को अपना मुख्य सलाहकार बनाने का एलान कर दिया है। इसके अलावा अब मुख्य सचिव के पद पर हरिकृष्ण द्विवेदी काम करेंगे और मंगलवार से अलपन अपनी नयी जिम्मेदारी संभालेंगे।

मुख्य सचिव पर अड़े केंद्र और ममता

दरअसल केंद्र सरकार ने बंगाल के चीफ सेक्रेटरी अलपन बंदोपाध्यय को दिल्ली के कार्मिक मंत्रालय के लिए सुबह 10 बजे बुलाया गया था। मगर वो नहीं पहुंचे और बंगाल के काम में व्यस्त रहे। ऐसा इसलिए क्योंकि इसपर ममता ने कड़ा रुख अपनाते हुए साफ़ इंकार कर दिया और पीएम मदोई को चिट्ठी लिखकर कहा कि कुछ हफ्ते पहले ही केंद्र से हमने अपील की थी और चीफ सेक्रेटरी के कार्यकाल को तीन महीने और बढ़ाने की बात कही थी, मगर एक बार फिर उन्होंने अपना रुख बदल लिया है। 

साथ ही इस चिट्ठी में ममता ने बताया कि उन्होंने साइक्लोन यास की मीटिंग ज्वाइन नहीं की, क्योंकि उनके मुताबिक पीएम-सीएम की मीटिंग में किसी विधायक का होना ठीक नहीं था। सीएम ने इस बात पर चिठ्ठी में नाराजगी व्यक्त की।

अब तक की कहानी

बता दें इस विवाद की शुरुआत 10 मई को हुई थी जब ममता ने चिट्ठी में कार्यकाल बढ़ाने की मांग की थी। 31 मई को आज अलपन का कार्यकाल खत्म हो रहा था और ममता की मांग के हिसाब से अलपन को सेवा की विस्तार की मंजूरी दी गयी। मगर फिर 28 मई को केंद्र सरकार ने दिल्ली बुलाने का आदेश दे दिया और आज 31 मई को उनकी जोइनिंग का दिन रखा गया।

अब दोनों सरकारों के बीच लंबी लड़ाई होती नजर आ रही है। अलपन ममता के करीबी अफसर माने जाते हैं और विवादों से दूर रहते हैं। मगर दोनों सरकार के विवाद के बीच उनके करियर पर अनुशास्त्मक तलवार लटक रही है।

अदिति शर्मा

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button
Close
Close
%d bloggers like this: