खेल
Breaking News

Tokyo Paralympics: सिंहराज अधाना ने जीता कांस्य पदक

टोक्यो पैरालंपिक में भारत का शानदार प्रदर्शन जारी है। आज भारत को निशानेबाजी में एक और पदक मिला। सिंहराज अधाना ने 10-मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में कांस्य पदक जीता। ये भारत का टोक्यो पैरालंपिक में 8वां पदक रहा। निशानेबाज़ी से भारत को इन खेलों में ये दूसरा पदक मिला।

टोक्यो पैरालंपिक में मंगलवार को पुरुषों की 10-मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा के फाइनल में भारत के सिंहराज अधाना ने कांस्य पदक जीता। वे 216.8 स्कोर के साथ तीसरे स्थान पर रहे। ये टोक्यो पैरालंपिक में भारत का आठवां पदक रहा।

राष्ट्रपति ने बढ़ाया हौसला

देश के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने सिंहराज की इस उपलब्धि को अद्भुत बताया। उन्होंने ट्वीट किया – पैरालंपिक में शूटिंग में सिंहराज अधाना का कांस्य पदक जीतना उनके कभी हार न मानने वाले जज़्बे और उत्कृष्टता की खोज की यात्रा में एक अहम पड़ाव है। इस अद्भुत उपलब्धि के लिए उन्हें बधाई! देश को आप पर गर्व है। आने वाले वर्षों में आप और अधिक गौरव प्राप्त करें।

पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिंहराज की प्रशंसा करते हुए ट्वीट किया – सिंहराज अधाना का असाधारण प्रदर्शन! भारत के प्रतिभाशाली निशानेबाज ने प्रतिष्ठित कांस्य पदक जीता। उन्होंने जबरदस्त मेहनत की है और उल्लेखनीय सफलताएं हासिल की हैं। उन्हें बधाई और आगे के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं।

खेलमंत्री ने भी की तारीफ

केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने भी सिंहराज को शुभकामनाएं दी। उन्होंने ट्वीट किया – सफलता के लिए उम्र कोई बाधा नहीं है! शूटर सिंहराज अधाना ने 39 वर्ष की आयु में अपने पैरालंपिक पदार्पण पर कांस्य पदक जीता है!

सिंहराज अधाना ने अपना ये पदक देश को समर्पित किया। साथ ही उन्होंने पैरालंपिक कमेटी ऑफ इंडिया, स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया व अपने कोच को धन्यवाद दिया।nवहीं सिंहराज की कामयाबी पर उनके परिवार के लोग बेहद खुश नज़र आए। कांस्य पदक से वे संतुष्ट ज़रूर हैं लेकिन 4 सितंबर को होने वाले 50 मीटर इवेंट में वे सिंहराज से स्वर्ण की उम्मीद कर रहे हैं।

39 वर्षीय सिंहराज अधाना ने सिर्फ चार साल पहले ही निशानेबाज़ी शुरु की है और ये उनका पहला पैरालंपिक है। ये टोक्यो पैरालंपिक में शूटिंग में भारत का दूसरा पदक रहा। इससे पहले अवनी लेखरा ने महिलाओं की दस मीटर एयर राइफल (SH 1) में स्वर्ण पदक जीता था।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button
Close
Close
%d bloggers like this: